lifestyle News

साहब! शादी के 18 महीने हो चुके पति एक बार भी नहीं झगड़ा, कभी बहस तक नहीं करता, लड़ाई को तरसी बीवी ने मांगा तलाक

विवाह विच्छेदन या यूं कहें कि तलाक (Divorce) आमतौर पर पति-पत्नी के बीच झगड़े के चलते होता है, लेकिन उत्तर प्रदेश के संभल (Sambhal) से ऐसा मामला सामने आ रहा है यहां पत्नी केवल इसलिए तलाक मांग रही है कि उसका पति उससे कभी झगड़ता नहीं है. उसका कहना है कि शादी को 18 महीने हो चुके लेकिन पति ने एक बारी भी लड़ाई नहीं की यहां तक कि कभी बहस तक नहीं की. पत्नी का कहना है कि मुझे ऐसा पति नहीं चाहिए जो मेरी हर बात ले और कभी झगड़ता ही न हो, इसलिए मुझे तलाक चाहिए. बीवी ने तलाक की अर्जी शरई अदालत में लगा दी जिसे उलेमा ने खारिज कर दिया है. शरई अदालत के बाद भी बीवी नहीं मानी औऱ उसके बाद पंचायत में तलाक मांगने गई लेकिन वहां भी उसे निराशा ही हाथ लगी.

पंचों ने इसे घर का निजी मसला बताकर पल्ला झाड़ लिया.

बीवी का कहना है कि उसका शौहर बहुत अच्‍छा, शरीफ और नेकदिल है. यही उसका कसूर है. जबसे शादी हुई है, उसने कभी भी ऊंची आवाज़ में बात नहीं कीशादी के 18 महीने हुए हैं. मियां-बीवी के कोई विवाद परिवार के लोगों ने नहीं सुना. इसके बावजूद महिला को न जाने क्या सूझी. न जाने किस बात पर इतनी नाराज हो गई कि शौहर से तलाक की अर्जी शरई अदालत में लगा दी. वजह पूछी तो जवाब दिया कि शौहर कभी झगड़ता नहीं, इसीलिए तलाक चाहिए. सुनने वाले हैरत में पड़ गए. उलमा ने अर्जी को खारिज कर दिया. शरई अदालत से मामला खारिज करने पर बीवी ने मोहल्ले के जिम्मेदार लोगों से पंचायत लगाकर तलाक की मांग की. पूरा वाकया जानने के बाद पंचायत ने भी यह मामला घर पर ही सुलझाने को कहा.

पति झगड़ता नहीं, घुटन महसूस कर रही

महिला का कहना है कि शौहर के ज्यादा प्यार को बर्दाश्त नहीं कर पा रही. वह मुझ पर कभी चिल्लाता नहीं है और न ही उसने मुझे कभी उदास होने दिया. न ही झगड़ता हैं. मैं लगातार ऐसे माहौल से घुटन महसूस कर रही हूं. वह कभी-कभी मेरे लिए खाना पकाता है और घर के काम में मेरी मदद भी करता है. 18 महीने की शादी में हमारा एक बार भी झगड़ा नहीं हुआ.

मैं एक झगड़े के लिए तरस गई हूं

बीवी का कहना है कि मैं एक झगड़े के लिए तरस रही हूं. मैं कोई गलती करूं तो वह हमेशा माफ कर देते हैं. मैं उसके साथ बहस करना चाहती हूं. मुझे ऐसी जिदगी नहीं चाहिए, जिसमें मेरा पति मेरी हर बात माने. उससे बार-बार पूछा गया कि कोई अन्य वजह तो नहीं है, मगर वह इसके अलावा कुछ नहीं बोली

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.