स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर भाषण
Featured Recommended

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर भाषण

मेरे सभी अध्यापकगण, मेरे सभी सह पाठीयों 15 अगस्त का इतिहास आज भी देश के तिरंगे में सुसज्जित है| 15 अगस्त के बारे में बहुत लोग केवल इतना ही जानते है की ये हमारी आजादी का दिन है लेकिन आजादी के पीछे छिपे उस संघर्ष की कहानी हर किसी को नहीं पता है.

आजादी की कहानी के लिए इतिहास के पिछले पन्नों को उठाना होगा| जिनमे बहुत से पन्नों में हमारे देश के उन क्रांतिकारियों की कहानी है| जिन्होंने अपना सब कुछ गवा दिया था हमारी आजादी के लिए.

आज के दिन जो हम खुली हवा में आजादी के साथ सांस ले रहे है तो केवल उन महान क्रांतिकारियों की वजह से|

आजादी का दिन प्रत्येक भारतीय के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिवस होना चाहिए.

15 अगस्त का दिन हमेशा से ही हमारे लिए खास रहा है| 15 अगस्त के दिन उन सभी बीते दिनों को याद किया जाता है जिनकी वजह से आज के समय में हमारा अस्तित्व है.

ब्रिटिश शासन से भारत की स्वतंत्रता ही नहीं बल्कि भारत की अपनी शक्ति का भी प्रमाण है 15 अगस्त का दिन|

15 अगस्त का दिन सभी समुदाय जाती धर्म के लोगों में एकता का दिवस है.

15 अगस्त के दिन लोगों में खुशी की बहार होती है| 15 अगस्त 1947 के बाद से भारत में बहुत से बदलाव देखने को मिले है.

15 अगस्त के बाद भारत पूरी तरह ब्रिटीशियों के चंगुल से छुटकारा पा चुका है.

भारत की आजादी के लिए बहुत सारे क्रांतिकारियों ने अपनी जान की आहुति दी है जिन्हें भुलाया नहीं जा सकता है उनके इस उपकार को हमे अपने दिलों में बसाये रखना है.

स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा दिलाई गयी स्वतंत्रता की कदर रखनी है कोई भी बुरी नजर वाला हमारे देश पर नजर डालने से पहले ही दस बार सोचे कुछ ऐसा करना हैं हमे|

भारत की आजादी को हमेशा बरकरार रखना है| भारत की आजादी के बाद भी हमरे देश में कई जगह ऐसी है जहा जात पात के चलते लोग अपने आप को आजाद महसूस नहीं करते है| हमे सभी जाती धर्म को बराबर समझ कर अपना देश महान बनाना चाहिए.

14 अगस्त 1947 की रात को भारत को आजादी मिली थी। जिसकी वजह से हम सभी हर साल 15 अगस्त के दिन स्वतंत्रता दिवस मनाते है क्योंकि भारत की आजादी के तुरंत बाद, नई दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस को पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भाषण दिया.

जब पूरी दुनिया के लोग अपने बिस्तरों पर आराम से सो रहे थे, ब्रिटिश शासन से जीवन और आजादी पाने के लिये भारत में हमारे स्वतंत्रता सेनानी लोग जगे हुए थे। अब, स्वतंत्रता के बाद, दुनिया में भारत सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है.

हमारा देश विविधता में एकता के लिये प्रसिद्ध है। इसने कई घटनाओं का सामना किया इसके धर्मनिरपेक्षता को परखने के लिये जबकि भरतीय लोग हमेशा अपनी एकता से जवाब देने के लिये तैयार रहते है.

आज हमें अपने पूर्वजों के कठोर संघर्षों की वजह से हम अपनी आजादी का उपभोग करने लायक बने है और अपनी इच्छा से खुली हवा में साँस ले सकते है.

हमें उन्हें दिल से धन्यवाद देना चाहिए.

ब्रिटिशों से आजादी पाना बेहद असंभव कार्य था लेकिन हमारे दादा-परदादा ने लगातार प्रयास से इसको प्राप्त कर लिया। हम उनके त्याग को कभी भूल नहीं सकते और हमेशा इतिहास के द्वारा उन्हें याद करते रहेंगे.

हमें उनकी याद में ही नहीं रहना है हमें उनके द्वारा दिलाई गयी आजादी की कद्र करनी है| वो हमेशा हमारी यादों में रहेंगे और पूरे जीवन के लिये प्रेरणा बने रहेंगे.

आज हम सभी भारतीयों के लिये बहुत महत्वपूर्ण दिन है जिसको हम महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों को याद करने के लिये मनाते है, जिन्होंने देश की आजादी और समृद्धि के लिये अपना जीवन दे दिया.

भारत आजाद हो पाया क्योंकि सहयोग, बलिदान और सभी भारतीयों की सहभागिता थी। हमें महत्व और सलामी देनी चाहिये उन सभी भारतीय नागिरकों को क्योंकि वो ही असली राष्ट्रीय अभिनेता थे.

हमें धर्मनिरपेक्षता में भरोसा रखना चाहिये और एकता को बनाए रखना है एक दुसरे से लडाई झगड़े न करे अपने सभी छोटे और बड़े लोगों को प्यार, सम्मना दें हमें देश का जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, किसी भी आपात स्थिति के लिये हमेशा तैयार रहना चाहिये। देश के लिए जान देने को कभी भी तैयार रहना चाहिए.

आज हमें शपथ लेनी चाहिये कि हम कल के भारत के एक जिम्मेदार और शिक्षित नागरिक बनेंगे। हमें गंभीरता से अपने कर्तव्यों को निभाना चाहिये और लक्ष्य प्राप्ति के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिये तथा सफलतापूर्वक इस लोकतांत्रित राष्ट्र को नेतृत्व प्रदान करना चाहिये.

भारत की आजादी सर्वोपरि है भारत का स्वतंत्रता दिवस पूरे साल का सबसे कीमती दिन है इस दिन अपने सभी लोगों से बिना किसी भेद भाव के मिलना चाहिए.

सभी भारतीय नागरिक 15 अगस्त पर अपनी अपनी तरीके से आजादी मनाते हैं इस दिन पतंगे उड़ाते हैं रिश्ते दारों के घर जाते है घूमना फिरना भी सबको पसंद है लेकिन इन सबके साथ हमें अपने संविधान की भी रक्षा करनी है और एक हीरो की तरह सब को संविधान की रक्षा करवानी भी है.

आज भी भारत माता की जय के लिए न जाने कितने सैनिक सरहद पर हथियार लेकर खड़े हैं हम उनकी तरह तो नहीं बन सकते है लेकिन क्या हम अपने भारत के लिए कुछ नहीं कर सकते है ?

जी बिलकुल बहुत कुछ कर सकते है आज भी हम अपनी भारत माता के लिए कुछ भी कर सकते है.

⇓ इस अवसर पर एक वाक्य पेश करना चाहूंगा ⇓

“हम आजाद हैं, ये आजादी कभी छिनने नहीं देंगे
तिरंगे की शान को हम कभी मिटने नहीं देंगे
कोई आंख भी उठाएगा जो हिंदुस्तान की तरफ
उन आंखों को फिर दुबारा दुनिया देखने नहीं देंगे”
जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं,
जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं
सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं,
देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं,
वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं.
सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं,
देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं,
वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.